चैत्र नवरात्रि पर इस शुभ मुहूर्त में करें सही विधि से कलश स्थापना, पूरे साल मिलेगा लाभ

चैत्र मास की शुरुआत हो चुकी है. इस महीने में चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri 2021) का पर्व मनाया जाता है. इस साल चैत्र नवरात्रि 13 अप्रैल से शुरू हो रहे हैं. चैत्र नवरात्रि में मां दुर्गा के 9 स्वरूपों की पूजा की जाती है. नवरात्रि के पहले दिन घटस्थापना  की जाती है. इसके साथ ही नवरात्रि का पर्व शुरू हो जाता है

नवरात्रि में घटस्थापना का विशेष महत्व होता है. घटस्थापना से ही नवरात्रि की पूजा शुरू होती है. घटस्थापना का मुहूर्त प्रात: 05 बजकर 28 मिनट से सुबह 10 बजकर 14 मिनट तक रहेगा. घटस्थापना के लिए मिट्टी के पात्र में सात प्रकार के अनाज बोए जाते हैं. इसके बाद इस पात्र के ऊपर कलश की स्थापना करें. कलश में जल भरें. इसमें गंगाजल भी मिलाएं. कलश पर कलावा बांधें. कलश के मुख पर आम या अशोक के पत्ते रख दें. फिर जटा नारियल को कलावा से बांधे. लाल कपड़े में नारियल को लपेट कर कलश के ऊपर रखें

चैत्र नवरात्रि कब से कब तक?

हिंदी पंचांग के मुताबिक, 13 अप्रैल मंगलवार को चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा की तिथि से नवरात्रि का पर्व शुरू होगा. नवमी की तिथि 21 अप्रैल को पड़ेगी. इसके साथ ही, नवरात्रि व्रत पारण 22 अप्रैल दशमी की तिथि को होगा.